Connect with us

News

Katrina described herself as lucky, as her friends from industry superstars | कटरीना ने खुद को भाग्यशाली बताया, क्योंकि इंडस्ट्री के सुपरस्टार्स उनके दोस्त

Published

on

कटरीना कैफ।

Dainik Bhaskar

Mar 07, 2020, 07:00 AM IST

बॉलीवुड डेस्क. एक्ट्रेस कटरीना कैफ इस मामले में खुद को खुशकिस्मत मानती हैं कि अक्षय कुमार, शाहरुख खान, ऋतिक रोशन और सलमान खान जैसे इंडस्ट्री के सुपरस्टार्स उनके दोस्त हैं। जिनसे वे कभी भी बातें कर सकती हैं। कटरीना का कहना है कि वे उनका सम्मान करती हैं और हमारी दोस्ती के बीच स्टारडम या ईगो कभी समस्या नहीं बना। कटरीना ने एक ऑडियो शो ‘किस्सा ख्वाबों का’ में बातचीत के दौरान ये बातें कहीं।

शो के दौरान कटरीना ने कहा, ‘मुझे इस बात को कहने की जरूरत नहीं पड़ती कि आपने मेरे अहंकार को ठेस क्यों पहुंचाई। ये आपकी समस्या है। अपमान एक अलग बात है। इस मामले में आपको खड़े होकर उसका विरोध करना चाहिए। ईगो से कौई भी उद्देश्य हासिल नहीं होता।’
 

दोस्ती के बीच अहंकार नहीं आता

आगे कटरीना ने कहा, ‘चाहे शाहरुख हो या ऋतिक, अक्षय हो या सलमान मैं बेहद भाग्यशाली हूं कि मैं उन्हें दोस्त कहती हूँ और वे मेरे लिए महत्वपूर्ण हैं। मैं कभी भी उनसे बात कर सकती हूं। मैं उनका सम्मान करती हूं और जब आप किसी का सम्मान करते हैं, तो फिर इसमें अहंकार बीच में नहीं आता।’

बचपन से स्टार बनना चाहती थी

अपनी जीवन यात्रा के बारे में बात करते हुए कटरीना ने कहा, ‘मेरा पूरा ध्यान एक स्टार बनने पर था। मैं लोगों का प्यार पाना चाहती थी। ये तब से था जब मैं बड़ी हो रही थी। इसे छुपाने या बदलने के लिए मेरे पास कोई कारण नहीं था। यही मेरी यात्रा और कहानी है और मुझे उसे मानना होगा। मैंने बिल्कुल वही किया जिसे करने के लिए मैं तैयार थी। हर रोज मुझे अहसास होता है कि ये कहने के लिए मैं कितनी भाग्यशाली हूं। मैं चाहती थी कि हर घर के लोग मुझे पहचाने, मेरी आदर्श हेमा मालिनी जी थीं और मैं उन्हीं की तरह बनने में मेरी दिलचस्पी थी।’

खुद से सवाल पूछने की आदत बन जाती है

कटरीना के मुताबिक जिंदगी का दूसरा नाम ही संतुलन बनाकर चलना है। उन्होंने कहा, ‘काफी कुछ ऐसा है जिसे आपको आजमाना और संतुलन बनाकर चलना पड़ता है। बहुत कुछ बदल जाता है, इसलिए अपने करियर के बारे में बात करना बेहद कठिन है। धीरे-धीरे अवचेतन में खुद से ये सवाल पूछने की आदत बन जाती है कि क्या मैं अच्छा कर रही हूं। इसे फिल्म इंडस्ट्री और मीडिया के मापदंडों के आधार पर आंका जाता है। आप स्वयं और खुद को लेकर आपकी भावनाएं भी उसी से चलने लग जाती हैं। खुद के बारे में जानने का आपका सेंस इस पर निर्भर करता है कि आप कौन हैं। चाहे फिल्म सफल हो या नहीं, इसका वजन आपको खुद पर नहीं लेना चाहिए।’
 


Source link

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Recent Posts

Categories

Trending

%d bloggers like this: