Connect with us

News

Rana Daggubati reduced 30 kg weight for Haathi Mere Saathi | ‘हाथी मेरे साथी’ के लिए राणा दग्गुबाती ने कम किया 30 किलो वजन, पूरी फिल्म में झुके हुए कंधों के साथ आएंगे नजर

Published

on

Rana Daggubati reduced 30 kg weight for Haathi Mere Saathi

Dainik Bhaskar

Feb 26, 2020, 09:00 AM IST

बॉलीवुड डेस्क.  2020 का सबसे बड़े एडवेंचर ड्रामा मानी जा रही फिल्म हाथी मेरे साथी में राणा दग्गुबाती मुख्य भूमिका निभाते हुए नज़र आएंगे। एरोस इंटरनेशनल प्रोडक्शन, राणा को विष्णु विशाल के साथ तमिल में ‘कादन’ और तेलुगु में ‘अरण्या’ के लीड एक्टर के तौर पर प्रस्तुत करेगा। वहीं हिंदी फिल्म ‘हाथी मेरे साथी ’में पुलकित सम्राट के साथ श्रिया पिलगांवकर और ज़ोया हुसैन भी दिलचस्प भूमिकाओं में नज़र आएंगी। 

राणा दग्गुबाती का लुक ख़बरों में बना हुआ है, इससे पहले उन्हें इस तरह के अवतार में कभी नहीं देखा गया है। जब से मेकर्स ने फिल्म से उनका पहला लुक रिलीज किया है। फैंस की उत्सुकता बढ़ गई है। 35 साल के राणा को बनदेव नामक एक जंगल मैन की भूमिका में दिखाया जाएगा। अपने लुक के लिए राणा ने एक सख्त डाइट का पालन किया और 30 किलो से भी ज्यादा वजन कम करने की ट्रेनिंग ली। फिल्म में, वह लम्बी दाढ़ी और ग्रे रंग के बालों में दिखे हैं और पूरी फिल्म में कंधे झुके हुए होंगे।

दिलचस्प बात यह है कि, निर्माताओं ने दग्गुबाती के किरदार को अलग दिखने की कोशिश की और फिल्म शुरू होने के पहले दिन तक उनका लुक रिवील नहीं किया गया था। बड़े पैमाने पर फिज़िकल ट्रांसफॉर्मेशन के बारे में हमें जानकारी देते हुए, राणा ने खुलासा किया- “प्रभु सर चाहते थे कि सब कुछ रियल और ऑर्गेनिक हो। मेरे लिए वजन कम करना बहुत ही मुश्किल था क्योंकि मैं हमेशा से ही बड़े फिजीक वाला रहा हूं| मुझे बनदेव के इस किरदार में दुबला दिखने के लिए व्यापक फिज़िकल ट्रेनिंग लेनी पड़ी। यह मेरे लिए अद्भुत और सीखने वाला अनुभव रहा है।”

हाथी मेरे साथी, तमिल में कदान और तेलुगु में अरण्या इन तीनों को ही एरोस इंटरनेशल प्रोड्यूस कर रहा है। यह फिल्म 2 अप्रैल 2020 को सिनेमाघरों में रिलीज हो रही है। हाथी मेरे साथी की कहानी असम के काजीरंगा में हाथी गलियारों को घेरने वाले मनुष्यों से प्रेरित हैं। राणा दग्गुबाती द्वारा निभाया गया किरदार एक ऐसे व्यक्ति की कहानी बयां करता है जिसने अपने जीवन का अधिकांश समय जंगल में व्यतीत किया है और जानवरों को बचाना अपना एकमात्र लक्ष्य बनाया है। लेकिन इन सबके लिए उसे काफी संघर्ष करना पड़ता है।


Source link

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Recent Posts

Categories

Trending

%d bloggers like this: